Friday, February 15, 2008

प्रथम स्वतन्त्रता संग्राम


रोटी कमल निशान हमें क्यों याद नही
गौरों का प्रस्थान हमें क्यों याद नही

जिस नारे से गौरों के दिल दहलाये
वन्देमातरम गान हमें क्यों याद नही

मेरठ मे जो क्रान्ति दूत बन ललकारा
मंगल का बलिदान हमें क्यों याद नही

देख वीरता गौरे भी थे घबराये
झांसी वाली शान हमें क्यों याद नही

अजीमुल्ला रंगो जी नाना टोपे
नायक बडे महान हमें क्यों याद नही

लाल किले से जफर क्रान्ति उदघोष किया
पुत्र किये बलिदान हमें क्यों याद नही

सन सैतालीस नया सवेरा लाल किला
तीन रंग का मान हमें क्यों याद नही।
Post a Comment