Tuesday, January 29, 2008

संकल्प

‘पृथ्वी’-परीक्षण किया जो हमने
तुमने ‘गौरी’ लिया उधार
पाँच धमाकों को सुनकर तो
पड़ गई तुम पर भारी मार

भारत अपने बल-बूते है
तुम इमदाद करो स्वीकार
रोटी तक का दाँव लगाकर
माँगो तुम सबसे हथियार

करगिल-काश्मीर में तुमने
करवाया जो नर-संहार
थू-थू की तुम पर दुनिया ने
सबने दिया तुम्हें दुत्कार

जब-जब छेड़ा तुमने हमको
हमने तुम्हें लगाई मार
अब जो युद्ध हुआ तो होगा
रावलपिन्डी पर अधिकार
Post a Comment