Tuesday, January 29, 2008

चेतावनी

अपनी काली करतूतों से
मिट जाएगा पाकिस्तान
रावलपिन्डी से आगे तक
फिर से होगा हिन्दुस्तान

भारत माता का कन्धा है
जिस पर पापी बैठा है
तुझपे तेरा अपना क्या है
जिस पर इतना ऐंठा है
मार पड़ेगी अबकी इतनी
घर-घर होगा क़ब्रिस्तान

पैंसठ और इकहत्तर को तू
शायद बिल्कुल भूल गया
भीख में कुछ हथियार मिले तो
तू ज़्यादा ही फूल गया
करगिल में इस गद्दारी का,
ब्याज़ सहित भुगता भुगतान

हमने अपनी नई सोच से
नव-इतिहास बनाया था
इन्द्रप्रस्थ-लाहौर जोड़कर
मैत्री-हाथ बढ़ाया थ
न्यौछावर हैं प्राण मित्र पर
दुश्मन के हम लेते प्राण

करगिल के दुश्मन तुझको हम
क़ब्रों में दफ़ना देंगें
विजय पताका भारत-भू की
हम तुझ पर फहरा देंगें
दुनिया भर में गूँज रहा है
भारत-माता का जयगान

प्राण लगाकर जिन वीरों ने
दुश्मन को ललकारा है
उनके बलिदानों के आगे
झुकता शीश हमारा है
भारत-माता की गोदी में
फिर से आना वीर जवान
Post a Comment