Tuesday, January 29, 2008

स्वाभिमान

भारत-भू पर देश भक्ति की
कैसी अलख जगाई है
भारत-माँ के बेटो तुमको
सौ-सौ बार बधाई है ॥

परम शक्ति है पास हमारे
हमने यह दिखलाया है
औ’ कम्प्यूटर में भी हमने
भारी नाम कमाया है

सी टी बी टी वालों को भी
हमने ही धमकाया है
भारत के गौरव का झण्डा
दुनिया पर फहराया है

हिन्दुस्तानी वैज्ञानिक ने
कैसी धूम मचाई है
भारत-माँ के बेटो तुमको
सौ-सौ बार बधाई है ॥

राष्ट्र संघ के दिव्य मंच पर
हिन्दी ज्योति जगाई है
और विदेशी चैनल पर भी
देखो हिन्दी छाई है

संस्कृत भाषा को भारत में
फिर मज़बूत बनाया है
संस्कृत वर्ष मनाकर हमने
ॠषियों का गुण गाया है



देखो नवयुग में भारत ने
कैसी ली अँगडाई है
भारत-माँ के बेटो तुमको
सौ-सौ बार बधाई है ॥

दुनिया भर के प्रतिबन्धों को
हमने धूल चटाई है
लक्ष्मी माता ने भारत पर
कृपा-दृष्टि बरसाई है

हमने शेयर बाज़ारों की
क़िस्मत को भी बदला है
अर्थ जगत के दादाओं के
हमलों को भी कुचला है

कृषि-बीमा से खलिहानों ने
नई रोशनी पाई है
भारत-माँ के बेटो तुमको
सौ-सौ बार बधाई है ॥

करगिल में कायर दुश्मन ने
अपनी पीठ दिखाई है
हिन्दुस्तानी बलिदानों से
धरती भी थर्राई है

राष्ट्र-प्रेम के इस मंज़र से
देखो कण-कण जाग उठा
घुसपैठी अपने साथी की
लाश छोड़कर भाग उठा

पाकिस्तानी ग़द्दारों ने
फिर से मुँह की खाई है
भारत-माँ के बेटो तुमको
सौ-सौ बार बधाई है ॥
Post a Comment