Monday, December 10, 2007

अडवाणी



नहीं कोई अब जिन्ना से प्यार है
ना ही कोई संघ से तकरार है
अडवाणी जी बैठें पी एम कुर्सी पर
अब ये राजग को भी स्वीकार है।
Post a Comment