Friday, November 19, 2010

दस्तक नए कवियों की…

नई दिल्ली, (जर्नलिस्ट टुडे नेटवर्क)... राष्ट्रीय कवि संगम ने हर बार की तरह इस बार भी कवियों की नई पीढ़ी का परिचय समाज से करवाया। संवेदना की थाती लिए कवि-सम्मेलनों में जगह तलाशते सोलह युवा रचनाकार 16 नवम्बर को राजधानी के टेक्निया सभागार में जनता से रू-ब-रू हुए। शब्दों का जादू सभागार को मंत्रमुग्ध करे इससे पूर्व अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त जादूगर सम्राट शंकर ने जादू के कार्यक्रम से दर्शकों का मनोरंजन किया। तत्पश्चात देश भर से चुने गए सोलह कवियों ने हास्य, ओज, शृंगार और संवेदना की छुअन से भरी कविताओं से सुनने वालों के दिल पर दस्तक दी। इन सोलह युवा प्रतिभाओं में वाणी गौरव गोलछा, सुमित मिश्रा, अनिता शर्मा, रोहित चौधरी, निशांत जैन, पार्थ नवीन, राधाकान्त, सचिन अग्रवाल, आलोक भाण्डोरिया, अंजुम शर्मा, लक्ष्मी भट्ट, मास्टर महेन्द्र, अनिल श्रीवास्तव और अनुराग पाठक शामिल थे। कवि-सम्मेलन का संचालन भिवानी के कवि श्याम वशिष्ठ शाहिद ने सफलतापूर्वक किया। इस अवसर पर वरिष्ठ कवि बालस्वरूप राही ने कहा- ‘अब से कुछ समय पहले मुझे ये चिंता होने लगी थी कि हिन्दी कविता कहाँ जा रही है, लेकिन आज इन युवा कवियों को सुनकर मुझे आश्चर्य मिश्रित प्रसन्न्ता हुई कि कविता यहाँ तक पहुँच गई है!’विख्यात हास्य कवि अरुण जैमिनी ने इस अवसर पर नए कवियों का उत्साहवर्द्धन करते हुए उन्हें कुछ ऐसे बिन्दुओं से अवगत कराया जो उनकी प्रतिभा को और अधिक सँवारने में सहयोगी हो सकते हैं।
  http://www.journalisttoday.com/online-news/delhi-news/9813-2010-11-19-12-04-30
Post a Comment