Friday, April 30, 2010

टेलीफोन टैपिंग

दुरभाष पर कीजिये देख भाल कर बात।
रिकार्डिंग अब हो रही लगी हुई हुई है घात॥
लगी हुई घात मचा है हल्ला गुल्ला।
संसद में भी खूब घुमाया सबने बल्ला॥
टेलीफोन टैपिंग का भैया मर्ज पुराना।
मनमोहन जी कब तक होगा यूं बहकाना॥
Post a Comment