Wednesday, January 27, 2010

हास्य की महफिल में खूब लगे ठहाके

 

सिलीगुड़ी : मनमोहन जी हर चुनाव में पीएम बन सकते हैं, चुनाव जीतकर एमपी बनना उनके बस की बात नहीं जैसी कई हास्यव्यंग्य के रस से भरी कविताओं को सुनकर दीनबंधु मंच में उपस्थित श्रोता हंसते-हंसते लोट-पोट हो गए। दैनिक जागरण के सहयोग से रंगमंच द्वारा आयोजित हास्य कवि सम्मेलन में अंतर्राष्ट्रीय मंच संचालक व हास्यकवि राजेश चेतन ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के अलावा मायावती, लालू प्रसाद यादव, रामविलास पासवान व राज ठाकरे जैसे नेताओं पर व्यंग्य व हास्य के रस मिलाकर लोगों को खूब हंसाया। लाफ्टर चैंपियन प्रताप फौजदार ने नेताओं से लेकर चिकित्सक समेत कई अन्य लोगों पर चुटकुले सुनाए, जिसे सुनकर लोग देर तक हंसते रहे। उन्होंने हंसाने के साथ-साथ देशभक्ति कविता तिरंगा भी सुनाई, जिसने लोगों के मन को एकबारगी झकझोर दिया। रवि जैन के गीत अभिलाषा को लोगों ने काफी सराहा। वीर रस के कवि मिथिलेश गहमरी की कविता गांव के जीतने भी गदहे थे, सब नेता हो गए हैं, तुम खुद को नेता कहकर मेरे सुभाष को गाली मत दो व दुश्मन को जीते जी कभी भी कश्मीर मत देना जैसी कविताओं ने लोगों के दिल में बैठ बना लिया। कवि जगवीर राठी की कविता मैं जीऊं तो तिरंगे के लिए पर भी खूब तालियां बजीं। गणतंत्र दिवस नजदीक होने के कारण हास्य कवि सम्मेलन होने के बावजूद कवियों ने देशभक्ति रस में लोगों को सराबोर किया। इससे पहले कार्यक्रम की शुरुआत रंगमंच के करण सिंह ने सरस्वती वंदना के साथ किया, जबकि निरंजन मित्तल ने दीप प्रज्ज्वलित किया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के तौर पर मेयर गंगोत्री दत्त, विशेष अतिथियों में एसडीओ रजत सैनी, डा सुभाष दामले, सुरेश अग्रवाल, डा डीआर नकीपुरिया आदि उपस्थित थे।

Post a Comment