Wednesday, January 14, 2009

कैसे रहें टैंशन फ्री

प्रकृति ने हंसने का वरदान केवल मनुष्य को दिया है कोई पशु अगर आपको हँसता मिल जाये तो मानिये की मनुष्य होने जा रहा है अगर कोई मनुष्य आपको मनहूस दिखायी पड़े तो जानिये की पशु होने जा रहा है किसी शायर ने ठीक ही कहा है कि या तो दीवाना हंसे या खुदा जिसे तौफ़ीक दे वरना इस दुनिया मे आकर मुस्कराता कौन है ये ठीक है कि दैनिक घटनायें हमारे मन और मस्तिष्क पर प्रभाव डालती है परन्तु ओशो ने कहा है कि इन घटनाओं से जो तनाव उत्पन्न होता है उससे हमें एक अतिरिक्त उर्जा मिलती है, उस उर्जा को एक दिशा दें यदि हमने सकारात्मक काम में उस उर्जा को लगाया तो वही उर्जा बाद मे विश्राम बन जायेगी। आज के युग में विद्यार्थी हो या गृहिणी, व्यापारी हो या कर्मचारी नेता हो या अधिकारी और यहाँ तक की संत महात्मा भी टैंशन में दिखायी पड़ते हैं किसी कवि ने लिखा है झील पर बादल बरसता है हमारे देश में, खेत पानी को तरसता है हमारे देश में, कुछ फकीरों पागलों और आशिकों को छोड़कर, आज खुलकर कौन हँसता है। हमारे देश में, टैंशन फ्री पत्रिका पिछले समय से लगातार आपको तनाव मुक्त करने का एक सार्थक प्रयास कर रही है मित्रों कुछ विनम्र सुझाव प्रस्तुत है वर्तमान में जीओ, संगीत से प्यार करो, मेल जोल बढ़ाओ, संतुलित भोजन करो कुछ समय ध्यान योग के लिये निकालो। कृष्ण का जीवन आदर्श के रुप में हमारे सामने है आपको भगवान श्रीकृष्ण का कोई ऐसा चित्र नही मिलेगा जिसमे वे मुस्करा ना रहें हो जो युद्ध के मैदान में भी मुस्करा सकते हैं आज उनके भक्तों की मुस्कराहट कहा चली गयी कृष्ण के भक्तों सदैव मुस्कराओ और तनाव को दूर भगाओ।
Post a Comment