Monday, May 12, 2008

शहंशाह बंदर


बंदर ये मतवाला है
प्यार बांटने वाला है
सुस्ताने को राजा का
तकिया बड़ा निराला है
Post a Comment