Monday, May 26, 2008

दोहा

धवल सवेरा हो गया, बीती काली रात
पहले क्षण दो क्षण करें, हम खुद से ही बात
Post a Comment