Wednesday, May 21, 2008

दोहा

काले काले मेघ हैं, बूंदे गाती राग
मौसम का सुख पायेगा, अब तो प्यारे जाग
Post a Comment