Friday, May 23, 2008

दोहा

किसान चला है खेत को, काम चला मजदूर
हम भी तो अब चल पड़ें, मंजिल है कुछ दूर
Post a Comment