Monday, April 7, 2008

कब गालिब की गजलों से लड़ती तुलसी की चौपाई - सत्तन

हैदराबाद न्यू सेंचुरी लायन्स क्लब, हैदराबाद ने श्री सत्य साई निगमागमम सभागार में एक विशाल हास्य कवि सम्मेलन का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में विशिष्ठ अतिथि के रूप में श्री चेन्ना किशन रेड्डी, डी आर एस ग्रुप के चेयरमैन श्री दयानन्द अग्रवाल, अग्रसेन बैंक के चेयरमैन श्री शिवशंकर अग्रवाल और लायन्स क्लब के जिला गवर्नर श्री आर सुनील कुमार उपस्थित थे। कार्यक्रम के पहले भाग का संचालन श्री जितेन्द्र लुनिया ने किया। इस समारोह को सफल बनाने में श्री कुमार अग्रवाल, श्री हेमन्त सोमानी, श्री सुवास राव, श्री कपिल अग्रवाल, श्री सन्दीप राठी, श्री सन्दीप अग्रवाल, श्री के के बलदेवा और श्री मोहित जाजू ने अथक मेहनत की। समारोह के दूसरे भाग में कवि सम्मेलन राजेश चेतन के संचालन में आरम्भ हुआ। लाफ्टर में प्रसिद्धि पा चुके बालक जय छनियारा अपनी व्हील चेयर पे सबसे पहले मंच पर आये और अपने चुटकुलों से श्रोताओं को लोटपोट कर दिया। उपस्थित कवियों ने देर रात तक श्रोताओं को बांधे रखा


कितना दर्द सहा होगा आजादी के मतवालों ने
जिनको भारत मां के खातिर त्याग दिया घरवालों ने
कभी निहत्थे हाथों से नाखून उखाड़ें जाते थे
कभी चीर कर चमड़ी उसमें नमक मिर्च भुरकाते थे
जब ना दर्द सहा जाता तो वन्दे मातरम गाते थे
ऐसे में निर्ममता से कोड़े बरसाये जाते थे
माना उनको मौत का अपनी अन्देशा हो जाता था
फिर भी मरते-मरते लब पे वन्दे मातरम आता था॥
शहनाज हिन्दुस्तानी, अजमेर


हृदय की तपती भठ्ठी में शब्दों की धातु गलती है
हास्य की गर्मी पड़ती है तो काव्य की बर्फ पिघलती है
मेरी हास्य की पुड़िया पर क्यूं नाराज हो दोस्त
जब हास्य ढोल बजाता है तब कविता रस्सी पर चलती है॥
जगबीर राठी, रोहतक


मुफ्त में हम तुम्हे क्या बताये
किस कदर चोट खाये हुए है
वोट ने हमको मारा है और हम
लीड़रों के सताये हुए है॥
एकेश पार्थ, जयपुर


मन के मरुथल में भी अबके बरसात हो
हर तरफ आग है प्यार की बात हो
भर सके रोशनी ज़िन्दगी में सदा
इस तरह की कोई चांदनी रात हो
ॠतु गोयल, दिल्ली




कारगिल के शहीद की, क्या बची साख ?
विधवा घूमती है, पाने को पाँच लाख
क्रिकेट का धोनी छः करोड़ में बिकता है
देश का चरित्र अजीबोगरीब दिखता है
दोस्तों कोई कैसे राष्ट्र उत्थान के गीत गाए ………
पीढ़ी तय करेगी कि क्रिकेट खेले या सीमा पर जाए॥
ओमव्यास 'ओम', उज्जैन


मैनै कहा,चेहरे से हम काले हैं
पर दिल में हमारे उजाले हैं
और रही तुम्हारे चेहरे की लाली
तो वह भी तुम्हारी नही
पराई हैं
तुमने दुनिया के लोगो से चुराई हैं
दुनिया का रक्त बहाकर
तुम्हारा चेहरा हो गया लाल
अब काहे को ठोक रहे हो ताल
लूटा है हमारा ही माल
गौरे चेहरे पर ज्यादा मत इतराओं
पहले आदमी बन कर दिखाओं
राजेश चेतन, दिल्ली


जो भी कौम वतन की खातिर मिटने को तैयार नहीं
उसकी सन्तति को आजादी जीने का अधिकार नहीं
डा॰ हरि ओम पंवार, मेरठ






कब गालिब की गजलों से, लड़ती तुलसी की चौपाई
गीता को गाली देने बोलो, किस दिन कुरान आई
मस्जिद की मीनारे, किस दिन कहो कलश से टकराई
किस मजहब में लिखा कि, आपस में लड़ मर जाओ भाई
सत्यनारायण सत्तन, इन्दौर
Post a Comment