Tuesday, January 29, 2008

अभिनन्दन

अभिनन्दन है उन वीरों का
जीवन तिल तिल जला गए जो
राष्ट्र-प्रेम का पाठ पढाकार
हमको जीना सिखा गए जो
आज प्रकाशित दसों दिशाएँ
देव-शक्तियाँ जाग उठी हैं
जाग उठा है सोया भारत
असुर-शक्तियाँ भाग उठी हैं
आओ मिलकर देश-भक्ति की
दीपशिखा को और बढाएँ
आज़ादी लाई है खुशियाँ
घर घर मंगल दीप जलाएँ
Post a Comment