Monday, August 21, 2017

धर्म और संस्कृति

धर्म और संस्कृति
-----------------------

जैसे
इंडोनेशिया में
लोगों ने धर्म तो बदला है
पर संस्कृति नहीं

मज़हब तो बदला है
पर पुरखे नहीं

वैसे ही
भारत में भी
लोग अक्सर कहते हैं -
दीवाली में अली और
रमज़ान में राम है

तो फिर इस ' बाघा बार्डर ' जैसी
बाधा का क्या काम है ?
और हमारी संस्कृति का भी
यही तो पैग़ाम है -

अगर इंडोनेशिया की तरह
हम भी सत्य को करेंगे स्वीकार
तो दुनिया मे गूँजेगी
भारतीय संस्कृति की जय जयकार ।
- राजेश चेतन
 
 
Post a Comment