Tuesday, September 9, 2014

कुदरत

सच में कुदरत की मनमानी है ।
घाटी में बस पानी पानी है।।
नफरत दिल की जल में डूब गई। 

शुरू प्यार की नई कहानी है ।।

Post a Comment