Sunday, September 7, 2014

मुसीबत

अब घाटी में नई मुसीबत आई है ।
पानी से संकट की बदली छाई है ।।
जिस सेना पर पत्थर मारा करते थे ।
उसके कंधे चढ़कर जान बचाई है
।।

Post a Comment