Wednesday, December 30, 2009

नया साल

नया साल है द्वार पर कामनवेल्थ बवाल
पूर्ण होगा खेल कब ना सूर है ना ताल
ना सूर है ना ताल साल का जश्न मनाओ
सारे मिलकर इन खेलों को सफल बनाओं
दो हजार दस का है केवल एक फँसाना
हर घर में गूँजेगा अब खेलों का गाना
Post a Comment