Sunday, March 1, 2009

उनके बस की बात नही

बात बात में बात बनाना उनके बस की बात नही
घर के लोगों को समझाना उनके बस की बात नही

होली के दिन दस जनपथ के दरवाजे पे मोहन जी
मैडम जी को रंग लगाना उनके बस की बात नही

मल्होत्रा जी सिंहासन के यूं ही सपने लेते है
शीला आंटी से टकराना उनके बस की बात नही

पाकिस्तानी दौरा करने अडवाणी जी जायेंगें
फिर जिन्ना को फूल चढ़ाना उनके बस की बात नही

खूब दिखाया स्लमी एरिया और आस्कर भी पाया
मगर स्लम को स्वर्ग बनाना उनके बस की बात नही

छोड़ फ़िजा को चांद मोहम्मद गली- गली में घूम रहे
अपनी बीवी के घर जाना उनके बस की बात नही

राज ठाकरे की भाषा पे उंगली रोज उठाते हैं
पटना में मुंबई को लाना उनके बस की बात नही

अमरीका के टावर तोड़े और अभी तक जिन्दा है
ओसामा को हाथ लगाना उनके बस बात नही

ओबामा ने कुर्सी पाई कोई फर्क नही पड़ता
अमरीका को आज बचाना उनके बस की बात नही

मनमोहन जी इस चुनाव में पी॰एम॰ तो बन सकते हैं
चुनाव जीतकर एम॰ पी॰ बन जाना उनके बस की बात नही

पाकिस्तान को रोज ही धमकी देते रहते पी॰ एम॰ जी
लेकिन आतंकवाद मिटाना उनके बस की बात नही

मैडल वापस लेने में भी बिल्कुल शर्म नही आई
अफजल को फांसी लटकाना उनके बस की बात नही

आतंकवादियों मासूमों का खून बहाना आता है
जाबांजों से युद्ध रचाना उनके बस की बात नही
Post a Comment