Monday, July 28, 2008

शिबू जी


लोकतंत्र के रखवाले बाजार खडे
कभी इधर और कभी उधर के पार खडे
मंत्री बनने के चक्कर में शिबू जी
वोट बेचने दस जनपथ के द्वार खडे
Post a Comment