Tuesday, June 3, 2008

दोहा

सारे जग में हो रहा, हिन्दी का विस्तार
कुछ दिन हम भी जा रहे, सात समन्दर पार
Post a Comment