Saturday, May 31, 2008

कर्नाटक

मोहन जी की ये कैसी लाचारी है
मंहगाई की जंग साथियों जारी है
कर्नाटक में कमल खिला देखा जब से
लगता अब तो लोकसभा की बारी है
Post a Comment