Thursday, May 29, 2008

दोहा

कदम कदम चलते रहो, भूख लगे या प्यास
मंजिल तो मिल जायेगी, मन में रख विश्वास
Post a Comment