Tuesday, September 19, 2017

मुक्तक

सीमाओं पर दुश्मन की ललकार है ।
और हमें भी भारत माँ से प्यार है ।
अब भी कोई माल खरीदे चीन का,
सच बोलूं वो भारत का गद्दार है ।
 
 
Post a Comment